ध्यान का प्रयोग विभिन्न धार्मिक क्रियाओं के रूप में अनादि काल से किया जाता रहा है।

om swastik belpatra

इस वेबसाइट का उद्देश्य Purpose

हम तन्त्र , माला , ताबीज, इनकी कार्यप्रणाली, समाधान, अनुष्ठान और उससे भी अधिक जीवन जीने की पद्धति प्रदान करते हैं।

संपर्क Contact

हमारा ईमेल पता क्या है? ईमेल में क्या लिखना चाहिए ?  हमारा पता क्या है ? हमसे संपर्क करने के क्या उपाय हैं? प्रतिक्रिया और प्रश्न को हल

तंत्र

तंत्र विद्या एक स्वतंत्र विज्ञान है।तंत्र शास्त्र भारत की एक प्राचीन विद्या है, तंत्र ग्रंथ भगवान शिव के मुख से आविर्भूत हुए हैं। उनको पवित्र और प्रामाणिक माना गया है। भारतीय साहित्य में 'तंत्र' की एक विशिष्ट स्थिति है, पर कुछ साधक इस शक्ति का दुरुपयोग करने लग गए, जिसके कारण यह विद्या बदनाम हो गई। प्राचीन इतिहास से संबन्धित प्रामाणिक पुस्तकों में ऐसे अनेक उदाहरण मिलते हैं, जिनसे पता चलता है कि उस समय बने यंत्रों के भी ऐसे अद्भूत कार्य संपन्न होते थे। जो आज आधुनिक यंत्रों से नहीं हो पाते।